राजस्थान में टिड्डियां प्रजनन को तैयार , मानसुन के साथ वापस आएगा टिड्डी दल



टिड्डियों के आतंक से परेशान उतर भारत व विश्व के ज्यादातर किसानों के लिए बुरी खबर है ।
Food and agriculture organization of the united Nations नें दावा किया है कि आने वाले जुलाई महीने तक टिड्डियों का आतंक राजस्थान व बाकी निकटतम जिलों में बरकरार रहेगा ।
बिहार व उडीसा राज्य में भी किसानों को टिड्डियों से भारी नुकशान की संभावना है ।


दक्षिण पश्चिम मानसुन में हवा के रूख में बदलाव के साथ ही टिड्डियां भी अपना रास्ता बदल लेंगी ।

Food and Agriculture of united Nations नें एक और चौकाने वाला दावा किया है । उनका कहना है कि इस बार टिड्डियां राजस्थान में अंडे देंगी । जिस्से राजस्थान में टिड्डियों की संख्या पकड से बाहर हो सकती है ।

एक अांकडे के अनुसार टिड्डियां एक दिन में 35000 लोगों को खिलाए जा सकने वाले खाने के बराबर फसल तबाह कर रही है । जोकि कोरोना जैसी महामारी के वक्त में लोगों व सरकारों की और चिंता बढा रहे है ।

टिड्डियों के बारे में कुछ रोचक जानकारी 

1- एक टिड्डी का वजन करीब 2 ग्राम होता है ।
2- टिड्डियों के एक छोटे दल में चार करोड ( 4 Crore ) टिड्डियां होती हैं।
3- टिड्डियां एक दिन में करीब 150 किलोमीटर की दुरी तय कर सकती हैं।

My Store टिड्डियों के बढने का कारण 

टिड्डिया तो हमेशा से ही हमारे आसपास रही हैं पर पिछले सालों से ये नीचे दिखाए गए फोटो के हिसाब से बढी है ।


GIB ( Great Indian Bustard )




GIB ( Great Indian Bustard ) नामक एक पक्षी है जो टिड्डियों को खाता है । पीछले काफी समय से उनकी संख्या मे लगातार गिरावट भी टिड्डियों की संख्या बढने का भी कारण है ।

Read  This Also

जाने अगले दो दिन के मौसम का हाल । कहां होगी तेज आँधी के साथ बारिश व कहां चलेंगी तपाने वाली लु


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां