Vocal for local जब यहां उगा सकते हैं दालें ,प्याज,ताड फिर विदेशों से क्युं मंगवाती है सरकारें

Palm Oil 



ताड़ का तेल
ताड की फसल सभी बारहमासी फसलों में से सबसे अधिक तेल (पाम ऑयल)देती है। ताड़ के पेड़ से खाद्य ताड तेल के साथ-साथ ताड कर्नेल-तेल का उत्पादन होता है। ताड के तेल को इसकी उच्च उपज क्षमता के कारण गोल्डन ताड माना जाता है। ताड 4 से 30 टन प्रति क्रूड पाम ऑयल (सीपीओ) और 0.40 से 0.50 टन प्रति हेक्टेयर पाम कर्नेल ऑयल (पीकेओ) का 4 से 30 वें वर्ष तक उत्पादन करती है। भारत में, सिंचित परिस्थितियों में 2017-18 तक लगभग 3,15,000 हेक्टेयर को कवर करके 13 राज्यों में तेल हथेली की खेती की जा रही है। आंध्र प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक, तमिलनाडु और बिहार आदि कुछ प्रमुख राज्य जो ताड की खेती करते हैं। भारत के आयात की लिस्ट में सबसे अधिक आयात की चीजों में ताड का तेल का आयात नौवे नमबर पर है। अभी तक सरकारों ने खाली कागजी समर्थन दिया है ।अगर सही मार्गदर्शन दिया जाअ किसान को तो भारत को आयात की कोई जरूरत ना पडे।

Pulses
दालें
भारत सबसे बड़ा उत्पादक (वैश्विक उत्पादन का 25%), उपभोक्ता (विश्व उपभोग का 27%) और दुनिया में दालों का आयातक (14%) है। खाद्यान्नों के अंतर्गत दलहन का लगभग 20 प्रतिशत क्षेत्र में योगदान होता है और देश में कुल खाद्यान्न उत्पादन का लगभग 7-10 प्रतिशत योगदान होता है। हालांकि दालों को खरीफ और रबी दोनों मौसमों में उगाया जाता है, लेकिन रबी दालों का कुल उत्पादन में 60 प्रतिशत से अधिक का योगदान है। मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक शीर्ष पांच दलहन उत्पादक राज्य हैं। दालों की उत्पादकता 764 किलोग्राम / हेक्टेयर है।

अगर किसानो को अगर प्रोत्साहन और सही दाम मिले तो भारत के किसानों में ईतनी श्मता है कि वे दूसरे देशो तक निर्यात करने में सक्सम है।

Onion
प्याज
Damand aur supply में असंतुलन और बिचोलियों के गैरकानुनी Storage से कई बार प्याज आसुं ला देता है ।
वैसे तो भारत खप्त से ज्यादा उत्पादन करता है पर भर्ष्ट तंञ की वजह से ईसके दाम आसमान छु जाते हैं।
भारत नें पीछले साल ही पाकिस्तान से 36000 metric tonne प्याज मंगवाया है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां