झुठ निकली आधी कीमत पर ट्रैक्टर वाली खबर, गलती से भी ना करे यह काम

Spread the love
  • 706
    Shares

 

आधी कीमत पर ट्रैक्टर

किसान अब ऑनलाइन ठगों के निशाने पर आ गए हैं। कुछ बदमाश किसानों को मोदी सरकार की स्कीम बताते हुए आधे पैसों में नया ट्रैक्टर देने का लालच दे रहे हैं। यह पुरी तरह से फर्जी योजना है।

इस योजना की पूछताछ करने के लिए किसान कृषि विभाग के चक्कर लगा रहे हैं तो कई फोन पर भी जानकारी ले रहे हैं। विभाग के अधिकारी व कर्मचारी इन फोन कॉल्स से परेशान हो गए हैं।

कृषि विभाग ने किसानों को समझाया है कि ऐसी कोई योजना केंद्र व राज्य सरकार की नहीं है।

 
 

किसानो को समझाया गया है कि किसी की बीतों में न आएं, वरना ठग आपको रजिस्ट्रेशन से लेकर डिलीवर करने के नाम पर पैसे हड़प लेंगे।

कृषि विभाग के उप निदेशक वीरेन्द्रसिंह सोलंकी ने बताया कि सरकार की ओर से ट्रैक्टर पर सब्सिडी देने वाली खबर फर्जी है। उन्होंने बताया कि पिछले एक सप्ताह से इस योजना की जानकारी लेने के लिए देशभर के सैकड़ों किसानों के फोन आ रहे हैं।

फेक योजना: प्रधानमंत्री किसान ट्रैक्टर योजना 2020

कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री किसान ट्रैक्टर योजना 2020” नाम से किसानों को छुट पर ट्रैक्टर उपलब्ध करवाने के बारे में जानकारी दी जा रही है।

ठग उसे इस तरह प्रचारित कर रहे हैं जैसे सरकार की योजना हो। उसमें प्रचारित किया जा रहा है कि मोदी सरकार 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने की दिशा में लगातार काम कर रही है।

अब नया वित्त वर्ष 2020-21 शुरू हो गया है। तो किसानों की पात्रता व राज्य सरकार के नियमों के अनुसार 50 फीसदी तक की सब्सिडी उपलब्ध कराई जाती है। खास बात यह है कि किसान किसी भी कंपनी का ट्रैक्टर खरीद सकता है। आधी कीमत चुकानी होती है।

ठगों ने ऑनलाइन लिंक व एप भी दिए हैं। कृषि विभाग के अधिकारियों ने कहा है कि ऐसे लालचों से किसान सावधान रहें। ये किसी असामाजिक तत्वों द्वारा किसानों को लुटने के लिए बिछाया जाल है। ठग किसानों को आवेदन फार्म व फ़ाइल चार्ज के नाम पर ठग सकते हैं।

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti


Spread the love
  • 706
    Shares

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *