क्या CACP पर झुठ के सहारे सफल हो पाएगा मोदी जी का जय किसान मंञ


सरकार का कथन
सरकार का किसानों को तोहफा -
केंद्रीय मंत्रिमंडल ने किसानों की मदद करने के उद्देश्य से ऐतिहासिक फैसलों को मंजूरी दी।

न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP):

खरीफ सीजन 2020-21 के लिए, सरकार ने उत्पादन की लागत का कम से कम 1.5 गुना के स्तर पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) तय करने का अपना वादा रखा है।

CACP की सिफारिश के आधार पर खरीफ सीजन 2020-21 के लिए 14 फसलों के MSP की घोषणा की गई है। 14 फसलों के लिए लागत पर वापसी 50% से 83% तक होती है।


महत्वपुर्ण जानकारी-
कृषि के लिए अल्पकालिक ऋण के लिए चुकौती की तारीख का विस्तार

मंत्रिमंडल ने इस साल अगस्त के अंत तक कृषि और संबद्ध गतिविधियों के लिए अल्पावधि ऋण के लिए पुनर्भुगतान की तारीख को मंजूरी दी है। इस फैसले से उन सभी किसानों को मदद मिलेगी जिनके ऋण की अदायगी की तारीख 1 मार्च से 31 अगस्त के बीच थी।

किसानों को किसान क्रेडिट कार्ड के माध्यम से मिलने वाले ऋण सहित रियायती अल्पकालिक फसली ऋण प्रदान करने के लिए ब्याज निवारण योजना (ISS) शुरू की गई।


स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट के तहत सच्चाई
स्वामीनाथन रिपोर्ट के अनुसार कल भी फसलों के दाम न  दिए जाने के चलते किसानों का इस बार का प्रति क्विंटल नुकसान:-

धान=Rs 632.50
कपास=Rs 1887.50
बाजरा=Rs 182.50
मक्का=Rs 559
अरहर=Rs 2196
मूंग=Rs 2237.50
उड़द=Rs 2355
मूंगफली=Rs 1493
सोयाबीन=Rs 1389.50

सूरजमुखी=Rs 1733.50


यह लेख हमारे सहयोगी रजत वत्स ने भेजा है । आप भी हमें अपने लिखे लेख भेज सकते हैं ।
Email - Mohitbooker95@gmail.com

Read This also 

भारत सरकार ने बैन किए 27 कीटनाशक , चैक करें कही आप तो ईन्हे इस्तेमाल नहीं कर रहे

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां