मुर्रा नस्ल भैंस : MurrahBuffalo आखिर क्यु मुर्रा को काला सोना कहते हैं।

मुर्रा नस्ल भैंस : MurrahBuffalo

भारत में मुख्य तो मुर्रा , जाफराबादी , सुरती आदि भैंस नस्लें जाती हैं। ये सब भैंसों में मुर्रा भैंस सबसे प्रसिद्ध  और सर्वोत्तम भैंसों में से एक है | मुर्रा भैंस को हरियाणा में “काला सोना (Black Gold)” कहा जाता है|                             
भैंस, भारत के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में लंबे समय से उच्च दूध उत्पादन और कर्ल वाले सींगों के लिए चुनी जाती है। इनका नाम 'मुर्राह' रखा गया जिसका अर्थ है 'कर्ल'। इन भैंसों को उनके मूल के केंद्र के रूप में 'देहल्ली' नाम दिया गया था।      इसका घरेलू मार्ग पंजाब और हरियाणा राज्यों हिस्सों के आसपास फैला हुआ है जिसमें रोहतक, भिवानी,¬ जींद, हिसार, झज्जर, फतेहाबाद, गुड़गांव और दिल्ली केंद्र शासित प्रदेश शामिल हैं। हालाँकि, यह नस्ल हमारे देश "भारत" के लगभग सभी हिस्सों में फैल गई है। वास्तव में, इस नस्ल ने बुल्गारिया, फिलीपींस, मलेशिया, थाईलैंड, चीन, इंडोनेशिया, बांग्लादेश, नेपाल, पूर्व यू.एस.एस.आर., म्यांमार, वियतनाम, ब्राजील और श्रीलंका जैसे कई विकासशील देशों के पशुधन उद्योग में भी महत्वपूर्ण स्थान पाया है। इसे या तो शुद्ध रूप में नस्ल किया जा रहा है या स्थानीय भैंसों को नस्ल सुधार के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है । मुर्राह भैंस पेशेवर और उत्पन्न डेयरी फार्मिंग के लिए अत्यधिक उपयुक्त है।

मुर्रा भैंस की शारीरिक विशेषताएं
✅ शरीर - मुर्रा नस्ल के पशु भारी-भरकम डील-डौल
      वाले होते हैं।
✅ रंग - गहरा काला रंग और लम्बी पूंछ मुर्रा भैंस के
      प्रमुख पहचान है
✅ सींग - उनके सींग छोटे और अंदर की तरफ कसकर
      मुड़े होते हैं।
✅ संरचना - इनका पिछला भाग चौड़ा और अगला भाग
      संकरा होता है।
✅ कान - कान छोटे, पतले और सतर्क होते हैं
✅ त्वचा और बाल - त्वचा अन्य भैंसों की तुलना में
      नरम, कम बाल के साथ चिकनी होती है।
✅ मादा पशु का वजन लगभग 650 किलोग्राम के
      आसपास होता है। और मादा पशु की ऊंचाई 133
      सेंटीमीटर के आसपास होती है।

310 दिनों की दुग्ध अवधि में औसत दूध उत्पादन 2200 लीटर है।

👍 मुर्रा भैंस पहली बियांत की उम्र 3 साल है | इनकी बियांत की अवधि 400- 500 दिन होती है | दूध देने की अवधी 240 से 300 दिन होती है । मुर्रा भैंस भारत में सर्वाधिक दूध देती है| यह भैंस प्रतिदिन 14-15 लीटर दूध देती है लेकिन इस भैंस ने ऑल इंडिया मिल्क यील्ड कॉम्पिटीशन में सर्वाधिक 31.5 किलोग्राम दूध देकर रिकॉर्ड बनाया है | इस भैंस की ब्यात की अवधि 280-300 दिन होती है | मुर्रा भैंसे अपने एक दूधकाल में लगभग 1800 से 4000 लीटर तक दूध देती हैं। मुर्रा भैंस के दूध में वसा की मात्रा 7 से 8 प्रतिशत होती है । यही कारण है की इस भैंस का अन्य नस्लों से दूध काफी महंगा बिकता है । मुर्रा भैंस आमतौर पर 12 साल तक जीवित रहते हैं । दूध की पैदावार 4 मिलियन दुद्ध निकालना होती है और तब से पैदावार कम होती है ।
फ़ीड विभिन्न कारकों पर निर्भर करता है जैसे पशु का वजन, चाहे वह दूध देने वाला हो और उपज कितनी हो, आदि एक स्तनपान कराने वाले मुर्रा भैंस के लिए एक अनुमानित फ़ीड अनुसूची है।

20 - 25 किलोग्राम हरा चारा।
8 - 10 किलोग्राम सूखा चारा जैसे कुट्टी, धान का पुआल आदि
4 से 6 किलोग्राम ध्यान केंद्रित फ़ीड।
50 ग्राम खनिज मिश्रण।
30 - 40 लीटर पानी।

शुद्ध मुर्रा भैंस और एक वर्गीकृत मुर्रा भैंस के बीच अंतर....?

एक शुद्ध मुर्रा भैंस है जिसका आनुवांशिक वंश शुद्ध है - मूल रूप से भैंस को किसी अन्य नस्ल के साथ पार नहीं किया गया है। एक वर्गीकृत मुर्राह एक शुद्ध मुर्राह और एक स्थानीय नस्ल के बीच का एक अंतर है - श्रेणीबद्ध मुर्राह स्थानीय जलवायु के प्रति अधिक संवेदनशील है और रोग के प्रति प्रतिरोधी है क्योंकि वे इन विशेषताओं को स्थानीय नस्ल से प्राप्त करते हैं लेकिन उनकी दूध की पैदावार शुद्ध नस्ल की तरह अधिक नहीं होगी। इसीलिए एक ग्रेडेड मुर्राह कम कीमत में बिकता है।

🔰मुर्रा भैंसों के निम्नलिखित लाभ हैं –
➡️ मुर्रा भैंस सभी भैंस नस्लों में सर्वाधिक दूध देते हैं |
➡️ एक मुर्रा भैंस प्रतिदिन 14-15 लीटर दूध देती है |
➡️ मुर्रा भैंस भारत में किसी भी तरह की जलवायु
      परिस्थितियों को अपनाने में सक्षम होते हैं ।
➡️ ये भारत में अधिकतर राज्यों में पाले जाते हैं ।
      ये भैंस नस्ल रोग प्रतिरोधी हैं ।
➡️ सूखे की स्थिथि में भी ये पशु कम चारे में पनपने मे
      सक्षम होते हैं ।

मुर्रा भैंस का मूल्य उम्र, दुग्ध क्षमता और अन्य कारकों पर निर्भर करता है । औसतन, इन्हें 35,000 से 1 लाख रुपये तक बेचा जाता है |

¬
मार्च और सितम्बर माह में NDRI, करनाल (हरियाणा) में मुर्रा भैंसों की सामान्य नीलामी के जरिये बिक्री आयोजित होती है | वैसे अन्य समय आप किसी बड़े डेरी फार्म से भी संपर्क कर सकते हैं।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां