किसान की आत्महत्या को हो चुके 2 साल , परिवार अभी भी सहायता राशि के इंतजार में

Spread the love
  • 189
    Shares

Advertisement

किसान को आत्महत्या कर जान गवाए 2 साल गुजर चुके हैं ,पर किसान के परिवार को मध्य प्रदेश सरकार द्वारा घोषित सहायता राशि नहीं मिली है।

Advertisement
किसान आत्महत्या Farmer Suicide

सिवनी मध्यप्रदेश के रहने वाले 32 वर्षीय किसान संत कुमार सनोदिया ने 2018 में कीटनाशक का सेवन कर आत्महत्या करली थी। अनाज मंडी में अपना बकाया चुकाने में विफल रहने के कारण किसान को आत्महत्या करनी पडी थी।
किसान को 120 क्विंटल चने की फसल के लिए 5.5 लाख रूपये मिलनें थे जिनका भुगतान नही हो रहा था । किसान को भुगतान मिलता तो वो अपना कर्ज चुका पाता।

किसान ने जिला कलेक्टर सिवनी को खुन से पत्र लिख आत्महत्या की चेतावनी भी दी थी। किसान ने चेताया था कि अगर 28 सितंबर तक उसकी बकाया राशि को मंजूरी नहीं दी गई तो वो आत्महत्या कर लेगा। एक दिन बाद, उसने कीटनाशक का सेवन कर आत्महत्या कर ली । सुसाइड नोट में किसान नें लिखा था कि उसे आत्महत्या के लिए मजबूर किया गया था। चार महीने से अधिक समय तक लुघरवाड़ा खरीद केंद्र पर बेची गई उसकी उपज का दाम नहीं मिला था।

उनकी मृत्यु के बाद, 1 अ्कतुबर को ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग को जाम कर परिवार के सदस्यों के लिए 1 करोड़ के मुआवजे और नौकरी की मांग की थी।

शिवराज सिंह चौहान सरकार के अधीन प्रशासन ने जल्दबाजी में किसान परिवार को मुआवजे के रूप में 10 लाख देने की घोषणा की।

हालांकि, परिवार का आरोप है कि वे दो साल बाद भी उनको पुरी राशि नहीं मिली है।

उनकी पत्नी, लक्ष्मी बाई ने कहा “हमें उपज बेचने के बाद भी चार महीने तक पैसा नहीं मिला, जिसके बाद मेरे पति ने 29 सितंबर, 2018 को जहर खा लिया। राज्य सरकार ने परिवार को 10 लाख का मुआवजा देने की घोषणा की लेकिन हमें आज तक पूरी राशि नहीं मिली है। ‘

उनकी मां, रुक्मणी बाई ने कहा ” मेरे बेटे की मृत्यु के बाद जब शिवराज चौहान का जिले का दौरा था तो स्थानीय प्रशासन नें हमें जबरदस्ती घर में कैद कर दिया।”

राज्य के कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा: “मामला मेरे संज्ञान में आया है। मैंने सिवनी के जिला कलेक्टर और स्थानीय विधायक से बात की है। मैं अब मुख्यमंत्री से बात करूंगा और यदि 10 लाख मुआवजे की घोषणा की गई है तो कोशिश करेंगें कि परिवार को मिल जाए। ”

National crime records bureau द्वारा जारी डाटा के अनुसार 2018 में 10349 किसानों ने आत्महत्या की जोकि काफी चौकाने वाला है ।

(अगर आपके आसपास कोई व्यक्ति मानसिक तनाव से परेशान है तो ऩीचे दिए नम्बरो पर जरूर बात करें।) हेल्पलाइन: 1) मानसिक स्वास्थ्य के लिए वंदरेवाला फाउंडेशन – 1860-2662-345 / 1800-2333-330 (24 घंटे 2) TISS iCall – 022-25521111 (सोमवार-शनिवार: सुबह 8 से रात 10 बजे तक)

Also read this दशको पुरानी किसानों की मांग पुरी । जानें अधिनियम से जुडी सारी बाते सरल भाषा में

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti


Spread the love
  • 189
    Shares

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *