इस दुध की कीमत है 7000 रूपये किलो,भारत में खुली पहली डेयरी

Spread the love
  • 2.8K
    Shares

Advertisement

गधी के दुध

सात हजार रुपए लीटर बिकेगा दूध

Advertisement

गुजरात की हलारी नस्ल की गधी का दूध औषधियों का खजाना माना जाता है। यह बाजार में 2000 से लेकर 7000 रुपये लीटर तक में बिकता है। इससे कैंसर, मोटापा, एलर्जी जैसी बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित होती है। इससे ब्यूटी प्रोडक्ट भी बनाए जाते हैं, जो काफी महंगे होते हैं।

गधी के दुध

Donkey Milk Dairy

गाय, भैंस, बकरी व ऊंट के दूध की डेयरी बाद अब देश में पहली बार गधी के दूध की भी डेयरी खुलने वाली है।
सबसे अच्छी बात तो यह है कि गधी का दूध शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढाता है।

गधी के दुध की डेयरी कहां है ?

राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केंद्र (NRCE) हिसार अब देश में हलारी नस्ल की गधी के दूध की डेयरी शुरू करने जा रहा है।

इसके लिए NRCE ने 10 हलारी नस्ल की गधियों को पहले ही गुजरात से मंगवा लिया था। जिनकी फिलहाल ब्रीडिग की जा रही है।

गधी के दुध की कीमत क्या है ?

ब्रीडिग की प्रक्रिया के पुरी हो जाने के बाद डेयरी का काम भी जल्द ही शुरु हो जाएगा। गुजरात की हलारी नस्ल की गधी का दूध औषधियों की खान माना जाता है। हलारी नस्ल की गधी के दुध की बाजार में कीमत 2500 से लेकर 7000 रुपये प्रति लीटर पहुंच जाती है।

पशु खरीदने को सरकार देगी 1 लाख 60 हजार रूपये । यहां करे आवेदन

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti

गधी के दुध के क्या फायदे हैं?

कैंसर, मोटापा, एलर्जी जैसी बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढाने के साथ साथ इससे ब्यूटी प्रोडक्ट भी बनाए जाते हैं, जो काफी महंगे होते हैं। डेयरी शुरू करने के कार्य में NRCE हिसार का साथ केंद्रीय भैंस अनुसंधान केंद्र हिसार व करनाल के नेशनल डेयरी रिसर्च इंस्ट्रीट्यूट के विज्ञानिकों द्वारा दिया जा रहा है।

डेयरी प्रोजेक्ट पर काम कर रहीं NRCE हिसार की वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉक्टर अनुराधा भारद्वाज के अनुसार गाय व भैंस के दूध से कई बार छोटे बच्चों को एलर्जी हो जाती है । मगर हलारी नस्ल की गधी के दूध से कभी भी छोटे बच्चों को एलर्जी नहीं होती।

गधी के दुध के तत्व

इसके दूध में एंटी ऑक्सीडेंट, एंटी एजींग तत्व पाए जाते हैं जो शरीर में कई गंभीर बीमारियों से लड़ने की क्षमता विकसित करते हैं। गधी के दूध पर शोध NRCE के पूर्व डॉयरेक्टर डॉक्टर बीएन त्रिपाठी ने शुरू किया था । इस दूध में नाममात्र का फैट होता है।

गधी के दुध से क्या क्या प्रोडक्ट बनता है ?

केरल की एक कंपनी इस गधी के दुध से ब्यूटी प्रोडक्ट तैयार कर रही है । गधी के दूध से साबुन, लिप बाम, बॉडी लोशन तैयार किए जा रहे हैं।


Spread the love
  • 2.8K
    Shares

12 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *