Cycle Baba एक किसानपुत्र जो साईकिल से नाप रहा दुनिया , लगा रहें है लाखो पौधे

Spread the love
  • 2.2K
    Shares

Advertisement

Cycle Baba अपनी विश्व साईकल यात्रा के 3 साल पूरे कर चुके हैं। अभी तक 52 देशों में 50000 किलो मीटर की यात्रा पुरी हो गयी है।
इस दौरान साईकिल बाबा विश्वभर के 900 स्कूल – कालेजों में अपना अनुभव साझा कर किया है ।

अपनी इस यात्रा में डाक्टर राज ने अभी तक लगभग एक लाख पौधे लगा चुके हैं जिनकी संख्या में लगातार वृद्धि हो रही है।

Cycle Baba साईकिल बाबा

साईकिल बाबा के नाम से प्रख्यात और पेशे से डाक्टर राज फाण्डन का जन्म हरियाणा राज्य के फतेहाबाद जिले में हुआ । साईकिल बाबा का पैतृक गांव डाणी सांचला है जोकि बुना नामक कस्बे के बिल्कुल पास है।
डाक्टर राज बुना कस्बे में आस्था हास्पिटल के नाम से एक अस्पताल भी चलाते हैं।

Advertisement

एक छोटे से गांव में मध्यम वर्गीय किसान परिवार में जन्मे डाक्टर राज साईकिल से विश्व यात्रा पर निकले हैं । अब तक साईकिल बाबा 52 देशों की यात्रा अपनी साईकिल पर पुरी कर चुके हैं।
साईकिल बाबा अपनी साईकिल को प्यार से धन्नों बुलाते हैं ।

Cycle Baba साईकिल बाबा

साईकिल बाबा द्वारा साईकिल से घुमे हुए देश

देशों के नाम India,Srilanka,Bangladesh , Bhutan ,Nepal, Myanmar
Laos,Vietnam ,Cambodia
Thailand ,Malaysia,Singapore ,Indonesia ,Timor ,Brunei
Philippine ,Taiwan ,JAPAN
S.koria,Hong Kong ,Macau
OmAn,UAE,Iran,Azarbaijan,
ARMENIA ,Georgia ,Turkey ,Italy ,Vatican City,San Marino
Slovakia ,Slovenia ,Crosia,
Hungry Austria ,Czech Republic ,Poland,Lithuania

and journey is still going on.

अब कहां है साईकिल बाबा ?


कोरोना महामारी के चलते डाक्टर राज नीदरलैंड में फंस गये थे । भारत सरकार द्वारा वन्दे भारत मिशन के तहत उन्हे भारत लाया गया।
अब भारत में रहकर उन्होने #RideForPride के तहत भारतीय सेना के सम्मान के लिए हिसार से लेह होते हुए दिल्ली तक की यात्रा शुरू कर दी है।

कैसे दे रहे है पर्यायवरण को बचाने का संदेश

साईकिल बाबा Wheels For Green मिशन के तहत विश्व यात्रा पर निकले हैं। Wheels For Green का मकसद है कि लोग ज्यादा से ज्यादा कार्बन मुक्त यात्रा के तरीके अपनाएं । प्रदुषण कम से कम हो । इसके साथ ही डाक्टर राज हर देश में पौधे लगाते है और बाकी लोगो को भी पौधे लगाने के लिए प्रेरित करते हैं।

Cycle Baba का कहना है कि छोटी-छोटी कोशिशों से ही बडे बदलाव होते हैं। इसके लिए आपको ज्यादा कुछ करने की जरूरत नहीं हैं बस थोड़ा सा पुरानी जीवनशैली को अपनाना होगा। Cycle baba का कहना है कि बीज वाले फल खाने के बाद उनके कुडे में ना डालकर इकट्ठा करें और जब कभी बाहर निकले तो उनको कहीं भी रोड की साईड में फेंक दें। धरती इतनी उपजाऊ तो है ही कि हजार में से 10 तो अंकुरित हो ही जाएंगे जो बड़े होकर पेड़ का रूप लेंगे। इस तरह आप पर्यावरण को बिना मेहनत किए ही फिर से बेहतर बना पाएंगे।

साईकिल बाबा का अपना एक युटयुब चैनल भी है जिसको 2 लाख से ज्यादा लोग सब्सकराइब कर चुके हैं।

Also Read This इस दुध की कीमत है 7000 रूपये किलो,भारत में खुली पहली डेयरी

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti

साईकिल बाबा के परिवार में कौन कौन है ?/ Cycle Baba Family

साईकिल बाबा के परिवार में उनकी बहन हैं जोकि शादीशुदा है।
डाक्टर राज की पत्नी डाक्टर कविता का देहांत हो चुका है । साईकिल बाबा के माता पिता का भी स्वर्गवास हो गया है।

What is real name of Cycle Baba ?

Dr Raj Phanden

Cycle Baba’s Wife Name ?

Late Dr Kavita

Cycle Baba Instagram account ?

Cycle Baba Facebook / cycle baba fb

साईकिल बाबा का पैतृक गांव कहां है ?

डाणी सांचला / Dhani Sanchla

Cycle Baba Youtube / Cycle Baba Youtube channel

When Did Cycle Baba Started his Journey ?

He started his Journey back in october 2016


Spread the love
  • 2.2K
    Shares

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *