13 साल की मेहनत के बाद मुंग का रोग प्रतिरोधी बीज तैयार

Spread the love

Advertisement

चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय हरियाणा के कृषि वैज्ञानिकों ने हाल ही में मूंग की एक नई किस्म को विकसित किया है जो कि रोग प्रतिरोधी बीज (रोग प्रतिरोधी किस्म) है । वैज्ञानिकों ने इस किस्म को एम एच 1 1 4 2 नाम दिया है । इस किस्म की खास बात यह है कि इसकी फसल एक साथ पक कर तैयार होती है तो वही इसकी फलियां काले रंग की होती हैं और बीज मध्यम आकार के हरे और चमकीले होते हैं । इसका पौधा कम फैलावदार, सीधा और सीमित होता है जिससे किसान इसकी कटाई आसानी से कर सकते हैं ।

Advertisement

काले गेहु की खेती कर कमाएं लाखो

ये किस्म उत्तर पश्चिम और उत्तर पूर्व के मैदानी इलाकों में 63 से 70 दिनों में पककर तैयार हो जाती है और इसकी औसत पैदावार भौगोलिक परिस्थितियों के अनुसार 12 से 20 क्विंटल प्रति हेक्टेयर तक आंकी गई है । इतना ही नहीं इसमें पीला ,मोजेक ,पत्ता छूरी, मरोड़ जैसे रोग लगने का डर भी नहीं है । मूंग की किस्मों फफूंद रोगों की प्रतिरोधी है तो वहीं पहले वाली किस्मों के मुताबिक इस पर चूसक और छेदक कीटों का प्रभाव भी बहुत कम होता है । एक जानकारी के अनुसार कृषि वैज्ञानिकों ने इस किस्म को तैयार करने में 13 साल की मेहनत लगाई है जिससे अगले साल खरीफ सीजन तक किसानों को उपलब्ध कराया जाएगा ।

रोग प्रतिरोधी बीज
रोग प्रतिरोधी बीज

रोग प्रतिरोधी बीज

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti


Spread the love

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *