Farm Bill 2020 के विरोध की मिल रही सजा,अकेले पंजाब में 3 लाख टन यूरिया की सप्लाई रोकी

Spread the love
  • 561
    Shares

Advertisement

Farm Bill 2020 के विरोध की मिल रही सजा,अकेले पंजाब में 3 लाख टन यूरिया की सप्लाई रोकी पंजाब में नए कृषि कानूनों (Farm Bill 2020) का किसानों द्वारा विरोध प्रदर्शन लगातार जारी है. पिछले एक महीने से अलग-अलग हिस्सों में किसान रेल रोको आंदोलन चला रहे हैं। इस वजह से राज्य में कई चीजों की कमी हो गई है लेकिन किसानो ने जरूरी ट्रेनों को अनुमति दे रखी है पर अब केंद्र सरकार जिद पर अड़ी है और किसानो तक यूरिया और खाद नहीं पहुंचा रही है।

Advertisement

बता दें कि रबी की फसल की बुवाई के लिए यूरिया और डीएपी (डायमोनियम फॉस्फेट) की जरूरत किसानो को बनी रहती है, लेकिन इस विरोध के चलते सरकार ने खाद से भरी मालगाड़ियां रद्द कर दी हैं, इसलिए गेहूं और अन्य फसलों के लिए जरूरी यूरिया खाद की भारी कमी हो गई है। अधिकारियों का कहना है कि इससे रबी फसल की बुवाई पर असर देखने को मिल सकता है।

Farm Bill 2020
Farm Bill 2020

पंजाब में यूरिया की कमी की पुष्टि कृषि विभाग ने भी है। पंजाब में रबी सीजन के लिए लगभग 14.50 लाख टन यूरिया की जरूरत पड़ती है, लेकिन पंजाब में अभी केवल 75,000 टन यूरिया ही उपलब्ध है। 4 लाख टन यूरिया अक्टूबर महीने में पंजाब पहुंचने वाली थी, जो कि केवल 1 लाख टन ही पहुंची है।

Army News मोदी सरकार ने की सैनिक पेंशन में कटौती की तैयारी

अक्टूबर नवंबर में गेहूं की बुवाई शुरू हो गई है। पंजाब में लगभग 35 लाख हेक्टेयर गेहूं का रकबा रहने की उम्मीद है। बता दें कि पंजाब में यूपी, गुजरात, राजस्थान आदि राज्यों से रेलगाड़ियों के जरिए यूरिया आती है। मगर केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों के विरोध की वजह से किसानों ने कुछ रेल पटरियों को बाधित कर दिया है। सरकार भी बदला लेने पर उतारू है और किसानो को यूरिया नहीं पहुंचा रहा है। इस वजह से रेलवे ने पंजाब में मालगाड़ी सेवाओं को रोक दिया है। हालांकि ताज़ा जानकारी के मुताबिक किसानो ने ट्रैक खाली कर दिए हैं।

Farm Bill 2020

If You Like This information Follow us on

Facebook https://www.facebook.com/khetikare/

Instagram https://www.instagram.com/khetikare/?hl=en

Twitter https://twitter.com/KareKheti 


Spread the love
  • 561
    Shares

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *